कश्मीर की पुकार

कश्मीर जो धरती का स्वर्ग दिखाई देता था ,
भारत माँ के सर का ताज दिखाई देता  था  ।
खो गया है आज वो अपनी ही फूलों की घाटी में ,
दुश्मन लात मार रहा हे भारत माँ की छाती में  ।।


47 के बटवारे ने  65 की आग में झोंक दिया ,
71 की लड़ाई ने भी कारगिल को फूँक दिया  ।
दिल्ली फिर भी कुम्भकरण की शैय्या पर सोई हे ,
देख दिल्ली की नाकामी धरती मैय्या रोई हे  ।।


क्यों शिमला समझौते को बार – बार दोहराते हो ,
एक बार क्यों नहीं नया कोहराम करवाते हो ।
बहुत सह लिया अब एक संग्राम हो जाने दो ,
उस  नापाक को उसकी ओकात बताने दो   ।।


शहीदों के बच्चों की किलकारी सुनाई देती हे घरों में 
कितने ही शिमला जैसे समझौते जलते हे बारूदों के ढेरों में  ।
आखिर दिल्ली का यह संयम क्यों नहीं टूट रहा 
सब्र का प्याला कब भरेगा जो पेंदे से फूट रहा  ।। 

ऐसे ही अंतर्मन को झकझोर देने वाली एक और कविता पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें ।

 

One thought on “कश्मीर की पुकार

  • May 16, 2017 at 7:49 pm
    Permalink

    maine khud ko hamesha rastravaad se dur rakha hai qki jab main jyadatar logo ke rastravaad pe vicharo ko jab sunta hun to usme rastravaad kam or vyabhuchar or kruta jyada hota hai rahi baat kashmir ki baat to maine hamesha yah mana hai ki kashmir ka faisla waha ki aavam ko karne diya jaye ki wah vastav mai kiske sath rahna chahti hai hamare sath pakistaan ke sath ya fir puri tarah se swatantra rastra jo ki uski bahut purani maang rahi hai ! maine hamesha ravindranath taigore ji ke rastrawaad ko sachcha or behtar rastrawaad mana hai jo ki aaj kal ke logo ke vicharo par or rajnetao ki raajniti par jordaar tamacha hai jo kabhi bhulaye nahi bhulta.
    main nahi janta ki mere is comment ko padhne ke baad aap mere bare me kis tarah ka vichar banate hai or sach kahun to mujhe iski parwah bhi nahi hai, kashmir me agar ashanti hai to wo hamari sarkar or kashmir ki sarkar ki galat nitio or galat faislo ki den hai.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: