‘जुबां केसरी’ एड के बाद सिंघम को भारत रत्न देने की मांग !

अपने विमल पान मसाला एड के कारण सुर्खियों में आ रहे सिंघम के लिये खुश खबरी , उनके फैन्स ने उन्हें जुबां केसरी में जबरदस्त अभिनय एवं देश को बदलने की इच्छा के लिए ‘भारत रत्न‘ देने की मांग की है।
उनके एक फैन मंगेश कुमार के अनुसार – ” देखिये पूरे आईपीएल में चोंकपुर चीतों के बाद सबसे ज्यादा चर्चा ‘जुबां केसरी‘ की है, इस बार कोहली के BC/MC से ज्यादा ‘सिंघम‘ का जादू चल रहा हैं।’ हमारे सूत्रों को अपनी गंदी शक्ल के साथ विमल पान मसाला के कारण हुई केसरी जबान दिखाकर अपनी फैन गिरी का सबूत जबरदस्ती दिया ।
जब हमारे सूत्रों ने उनके अन्य फैन बच्चा सिंह यादव से बात करने की कोशिश की तो पहले उन्होंने अपने बनारसी पान को थूकने से मना कर दिया, बड़ी मिन्नतों के बाद उन्होने अपनी गली के चौराहे पर पेंटिंग बनाने के बाद बोले – ” देखो भईया, ई सब बेकार की बात में हमरा टाइम वेस्ट मत करियो , नही तो धर देंगे दो चार चपेटे मुहँ पर। सिंघम भईया ही सबसे बेस्टवा है, उनको भारत रत्न क्या, वाराणसी पान मसाला ग्रामी अवार्ड भी देना बनता हैं।” 2 पैकेट विमल के देने के बाद ही हमारे सूत्रों को छोड़ा नही तो एक आध टेंटुआ तो दब ही जाता।
जब हमने विमल पान मसाला के सूत्रों से बात की तो उनके अनुसार ” देखिये पूरी देशभक्ति का ठेका खिलाड़ी कुमार ने ले रखा है, हमारी और सिंघम भाई की हालत समान है, आजकल हमे रजनीगंधा के सामने और उनको खिलाड़ी कुमार के सामने कोई नही पूछता हैं, तभी हमारी मार्केटिंग टीम ने कई सालों की कड़ी मेहनत के बाद एक विदेशी एड एजेंसी को हायर करने के बाद इस एड को बनाने का आईडिया आया, अब रिजल्ट आप सबके सामने है।”
जब हमारे सूत्रों ने पान बहार और RMD से बात करने की कोशिश की तो उन्होंने कोई प्रतिक्रिया देने से मना कर दिया और अपनी फैक्टरी से सामान समेटने का काम जारी रखा।

 

इसी बीच खबर मिली है कि यूपी सरकार ने अपने प्रदेश में पान मसाला के उपयोग को देखते हुए ‘जुबां केसरी’ को राज्य गान  तथा सिंघम भईया को ब्रांड एंबेसडर घोषित किया जाएगा जिससे कि सभी गुटखा प्रेमियों को अगले चुनाव तक प्रसन्न रखा जा सके और हर पान की थड़ी/घुमटी पर लाउड स्पीकर में यह गाना बजाना अनिवार्य होगा।
Image : सौजन्य से इंटरनेट

#FakeNews #ReadForFun

Copyright © 2017 – Jagdish Jat

3 thoughts on “‘जुबां केसरी’ एड के बाद सिंघम को भारत रत्न देने की मांग !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: