Jan Aushadhi : मोदी सरकार की एक धमाकेदार योजना , कमाई के 3 सरल तरीके

प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि ( Jan Aushadhi )  परियोजना

सरकार की 1 स्कीम में 3 तरह से होगी कमाई, आपभी उठा सकते हैं फायदा

अगर आप कोई नया बिजनेस शुरू करने की सोच रहे हैं तो सरकार की इस खास स्कीम का फायदा उठा सकते हैं। खास बात यह है कि यह स्कीम तो एक ही है, लेकिन इसमें आप 3 तरह से बिजनेस शुरू करने का प्लान कर सकते हैं। सरकार की इस महात्वाकांक्षी स्कीम में बिजनेस शुरू करने वालों के लिए कई तरह की सुविधाएं भी दी गई हैं और इनकम की भी गारंटी ली जा रही है। यहां तक कि सरकार अपनी ओर से फाइनेंशियल हेल्प भी दे रही है।

हम बात कर रहे हैं केंद्र सरकार की सस्ती दवाओं की योजना जनऔषधि की। शुरू में सरकार 3000 जनऔषधि केंद्र खोलने पर फोकस कर रही है, यह टारगेट पूरा होने पर यह संख्‍या दोगुनी हो सकती है।

इससे जुड़कर आप हर महीने 25 हजार रुपए से लेकर लाखों में इनकम कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि इस स्कीम का किस तरह से फायदा उठा सकते हैं।

खोलें मेडिकल स्टोर, सरकार देगी 2.5 लाख

पहला तरीका मेडिकल स्टोर (जनऔषधि केंद्र) शुरू करने का है, जिसके लिए आपके पास 120 वर्गफुट की दुकान होनी जरूरी है। खास बात यह है कि सरकार जनऔषधि क्रेंद खोलने के लिए आपको 2.5 लाख रुपए की हेल्प करेगी। इसके लिए आपको जनऔषधि खोलने के लिए आवेदन करना होगा। जिसके बाद आपकी दुकान का सर्वे किया जाएगा। सर्वे में सबकुछ सही पाए जाने पर सरकार की ओर से इसके लिए मंजूरी मिल जाएगी। जनऔषधि केंद्र कुछ जरूरी शर्तों को पूरा करने पर कोई भी खोल सकता है।

 

कितना होगा खर्च

एक जनऔषधि केंद्र खोलने पर करीब 2.5 लाख रुपए का खर्च आता है, जो दवाओं, दुकान का इंफ्रास्ट्रक्चर पूरा करने और फ्रिज-कंप्यूटर आदि रखने में होता है। करीब 1 लाख रुपए की दवाएं शुरू में लेनी होती है, 1.5 लाख इंफ्रा आदि पर खर्च हो जाता है। खास बात यह है कि यह पूरा खर्च सरकार रीइंबर्समेंट के रूप में आपको वापस कर देती है। यह रीइंबर्समेंट इंसेंटिव के रूप में होता है, जिसकी लिमिट सरकार ने 2.5 लाख रुपए रखी है।

सरकार दवा की बिक्री पर 20 फीसदी आपको देगी

हर महीने आप जितनी दवा सेल कर देंगे, उस पर 20 फीसदी कमिशन आपके खाते में आ जाएगा। यानी अगर 1 लाख रुपए मंथली सेल है तो आपको हर माह 20 हजार रुपए कमिशन के रूप में मिल जाएंगे। अगर सेल 2 लाख रुपए है तो आप 40 हजार रुपए भी हर महीने अर्न कर सकते हैं।

कैसे करें आवेदन

सबसे पहले आपको जनऔषधि की वेबसाइट  http://janaushadhi.gov.in पर जाना होगा, जहां आपको जनऔषधि शुरू करने से जुड़ा एक लिंक मिलेगा। लिंक को क्लिक करने पर पूरा आवेदन फॉर्म मिल जाएगा। फॉर्म में सभी बातों की जानकारी और जरूरी डॉक्युमेंट्स लगाने होंगे। इसके बाद इस पते पर भेज दें….

सीईओ, ब्यूरो ऑफ फार्मा पीएसयू ऑफ इंडिया आईडीपीएल कॉम्पलैक्स, गुडगांव- 122016

15 जनऔषधि केंद्र खुलवाकर बन सकते हैं डिस्ट्रीब्यूटर

इन सभी केंद्रों पर दवाएं समय से उपलब्ध हो सकें, इसके लिए सरकार देश के 19 राज्यों में डिस्ट्रीब्यूटर बना रही है। अगर आपके पास डिस्ट्रीब्यूटर होने का अनुभव है तो आप इसके लिए आवेदन कर ही सकते हैं। वहीं, अगर आप जनऔषधि केंद्र खोलते हें तो इसके जरिए डिस्ट्रीब्यूटर बन सकते हैं। इसके लिए आपको अपने एरिया में 15 दवा की दुकान खोलनी होगी या खुलवानी होगी। हालांकि, एप्लीकैंट के पास होलसेल ड्रग लाइसेंस होना चाहिए। अगर आपको डिस्ट्रीब्यूटरशिप मिलती है तो आप इसके जरिए लाखों में अर्निंग कर सकते हैं।

 

बिना जनऔषधि खोले ऐसे बन सकते हैं डिस्ट्रीब्यूटर

आवेदन करने के लिए आपके पास होलसेल ड्रग लाइसेंस होना चाहिए। वैट रजिस्ट्रेशन किसी फार्मास्युटिकल कंपनी का कम से कम 3 साल से डिस्ट्रीब्यूटर होना जरूरी है। साथ ही कम से कम दो फार्मास्युटिकल कंपनियों के लिए देश भर में आपरेशन करना जरूरी है। डिस्ट्रीब्यूटर के रूप में कंपनी का छोटे शहरों में सालाना टर्नओवर कम से कम 1 करोड़ और मेट्रो शहरों में 2.5 करोड़ रुपए का टर्नओवर होना जरूरी है।

अधिक जानकारी के लिए आप इस लिंक पर क्लिक कर सकते हैं : http://janaushadhi.gov.in/data/Distribution_Services.pdf

जनऔषधि योजना में बनें एजेंट

सरकार जनऔषधि योजना के तहत पूरे देश में एजेंट (क्लीयरिंग एंड फारवर्डिंग) बना रही है। सरकार का उद्देश्‍य है कि अच्छी क्वालिटी वाली सस्ती दवाओं की मेडिकल स्टोर से लेकर डिस्ट्रीब्यूटर्स तक सप्लाई में किसी तरह की परेशानी न होने पाए। योजना के तहत एजेंट बनने वालों को 30 हजार रुपए मंथली इनकम की गारंटी दी जा रही है। एक एजेंट महीने में अधिकतम 1.5 लाख रुपए तक इनकम कर सकता है।

 

-योजना के तहत एजेंट को अपने-अपने एरिया में सप्लाई होने वाले दवाओं, सर्जिकल उपकरणों व अन्य उपकरणों की स्टॉकिंग करनी होगी।

-क्लीयरिंग के बाद उस एरिया में मौजूद डिस्ट्रीब्यूटर्स, जन औषधि केंद्रों और अस्पतालों तक कम से कम समय में दवाओं की सप्लाई करनी होगी।

-ध्‍यान रखना होगा कि सेंटर्स पर दवाओं की कमी न होने पाए।

-दवाओं के स्टॉक और उनकी सप्लाई के बारे में रोजाना की रिपोर्ट बीपीपीआई को देनी होगी।

-हर डिस्ट्रीब्यूटर्स से पेमेंट कलेक्ट कर उन्हें बीपीपीआई के बैंक अकाउंट में जमा कराना होगा।

-आपके पास कम से कम 5000 वर्गफीट का कमर्शियल स्पेस होना जरूरी है।

-आपके पास बेहतर स्टोरेज फैसिलिटी होनी चाहिए।

-दवा के क्षेत्र में कम से कम 1 साल का काम करने का अनुभव होना जरूरी है। इससे जुड़े डॉक्युमेंट्स देने होंगे।

-1.5 करोड़ तक एनुअल सेल टर्नओवर वालों को वरीयता दी जाएगी।

-ड्रग एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट के तहत आप पर किसी तरह का विवाद नहीं होना चाहिए।

ऐसे कर सकते हैं आवेदन

सबसे पहले आपको जनऔषधि की वेबसाइट  http://janaushadhi.gov.in  पर जाना होगा, जहां एक लिंक मिलेगा, जिसमें योजना के तहत सीएफए अप्वॉइंटमेंट की जानकारी होगी। लिंक को क्लिक करने पर पूरा आवेदन फॉर्म मिल जाएगा, जिसे आपको डाउनलोड करना होगा। फॉर्म में सभी बातों की जानकारी और जरूरी डॉक्युमेंट्स लगाने होंगे।

सीईओ, ब्यूरो ऑफ फार्मा पीएसयू ऑफ इंडिया आईडीपीएल कॉम्पलैक्स, गुडगांव- 122016

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: