Bitcoin (बिटकॉइन) – संसार की सबसे रहस्यमयी मुद्रा

Bitcoin :  इस सीरीज के अंतर्गत हम बिटकॉइन  (Bitcoin) के विभिन्न पहलुओं के बारे में जानकारी देने की कोशिश करेंगे ।

 

इंटरनेट के बढ़ते प्रयोग के बाद डिजिटल क्षेत्र में कई तरह के क्रांतिकारी उत्पादों का अविष्कार हुआ है जिसने मनुष्य के जीवन को अत्यधिक सरल बनाने का काम किया है । आजकल जहाँ हर तरफ डिजिटल लेनदेन का वर्चस्व चल रहा है चाहे भीम एप्प हो या Paytm वॉलेट , आम आदमी से लेकर व्यवसायी तक डिजिटल लेनदेन का प्रचुर मात्रा में प्रयोग कर रहा है ।

इसी डिजिटल लेनदेन की कड़ी में नयी डिजिटल मुद्रा का भी जन्म हुआ है जिसे बिटकॉइन (Bitcoin) कहाँ जाता है । आजकल चारों तरफ रैनसम वायर वायरस   के अटैक के बाद बिटकॉइन (Bitcoin) की चर्चा ने भी जोर पकड़ लिया है । इस मुद्रा के बारे में आम आदमी से लेकर सरकार तक ठोस जानकारी नहीं है इसीलिए हमने इंटरनेट पर बिटकॉइन की जानकारी उपलब्ध कराने का निर्णय किया है , उम्मीद है आपको पसंद आएगा ।

 

बिटकॉइन (Bitcoin) क्या है ?

ये एक प्रकार की मुद्रा है जिसका उपयोग वस्तुओं के लेनदेन में किया जा सकता है जैसे कि हम डॉलर या रुपये का इस्तेमाल करते है । ये एक डिजिटल मुद्रा है मतलब डॉलर या रुपये की तरह इसके नोट नहीं मिलते है , ये केवल डिजिटल रूप में ही उपलब्ध होती है , जिसका सीधा मतलब है कि बिटकॉइन के लिए बाकी मुद्राओं की तरह नोट छापने के लिए पेड़ों को नहीं काटना पड़ता है ।

इसमें आपको एक Paytm वॉलेट की तरह डिजिटल वॉलेट मिलता है जिसमे आपका यूनिक पेमेंट एड्रेस मिलता है जिसका उपयोग आप बिटकॉइन लेनदेन के लिए कर सकते हो। ये यूनिक नंबर आपके बैंक अकाउंट नंबर की तरह काम करता है तथा आपके सभी लेनदेन के रेकॉर्ड्स की जानकारी रखता है ।



 

बिटकॉइन (Bitcoin) कैसे काम करता है ?

बिटकॉइन के बारे में सबसे ज्यादा भ्रम और अफवाह इसके काम करने के तरीके पर फ़ैलाए जाते है । आम उपभोक्ता कम जानकारी के कारण अफवाहों को ही सच मान लेता है , आइये आज जानते है इसकी क्रिया विधि के बारे में –

उपयोग कैसे करें

आपको बिटकॉइन इस्तेमाल करने के लिए कोई कंप्यूटर या तकनिकी ज्ञान की आवश्यकता नहीं है, जिस तरह आप Paytm वॉलेट इस्तेमाल करते हो , उसी तरह बिटकॉइन का इस्तेमाल भी किया जा सकता है । आपको केवल बिटकॉइन वॉलेट इनस्टॉल करना है जो गूगल प्ले स्टोर या एप्पल एप्प स्टोर पर उपलब्ध है , ये वॉलेट आप अपने मोबाइल या कंप्यूटर/डेस्कटॉप किसी पर भी इनस्टॉल कर सकते है । इंस्टालेशन के तुरंत बाद ये एक बिटकॉइन एड्रेस बनता है जो आपके बैंक अकाउंट के एड्रेस की तरह काम करता है । अगर आपको एक से ज्यादा बिटकॉइन एड्रेस बनाने है तो भी आप बिटकॉइन एप्लीकेशन से नए एड्रेस बना सकते है । अब इस एड्रेस को आप अपने मित्र या ग्राहक को भेज कर पैसा ट्रांसफर कर सकते है । जिस तरह से एक ईमेल भेज कर आप सूचनाए भेजते हो बिल्कुल ठीक वैसे ही आप बिटकॉइन एड्रेस पर पैसे भेज सकते हो ।

Note : बिटकॉइन वॉलेट आपकी कोई भी निजी जानकारी जैसे नाम , जन्म दिनांक , पता और मोबाइल नंबर या बैंक अकाउंट की जानकारी का इस्तेमाल नहीं करता है । बिटकॉइन वॉलेट से मिला एड्रेस ही बिटकॉइन नेटवर्क में आपकी एकमात्र पहचान होती है ।

 

bitcoin

ब्लॉकचैन (Block-Chain) या बही खाता

तकनिकी भाषा में ब्लॉक चैन बिटकॉइन के लेनदेन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है । ब्लॉक चैन एक तरीके से बही खाता होती है जिसमे बिटकॉइन नेटवर्क पर हुए सभी लेनदेन की जानकारी होती है । सारे लेनदेन जो युजर्स के द्वारा कन्फर्म हो जाते है उसका रिकॉर्ड इसमें होता है । अब आप सोच रहे होंगे कि सारे लेनदेन सार्वजानिक होने से कोई भी आदमी किसी भी लेनदेन के बारे में जान सकता है , जी हाँ वो व्यक्ति जान तो सकता है लेकिन केवल बिटकॉइन एड्रेस और लेनदेन की अमाउंट। इस जानकारी से युजर्स कुछ भी हासिल नहीं कर सकता क्योंकि उसमे एड्रेस से वो सिवाय पैसे भेजने के अलावा कुछ भी नहीं कर सकता है , बाकी सारी जानकारी कंप्यूटर अल्गोरिथिम से एनक्रिप्टेड होती है जिससे यूजर के बिटकॉइन के हैक होने की सम्भावना नगण्य हो जाती है ।



वित्तीय लेनदेन (Transaction)-

बिटकॉइन का लेनदेन हमेशा ब्लॉक चैन में जुड़ता है और ये जानकारी एक खास तरह की कंप्यूटर अल्गोरिथिम और प्राइवेट डिजिटल कुंजी से एनक्रिप्टेड ( ऐसी भाषा जिसे कोई भी कंप्यूटर या मनुष्य नहीं पढ़ पाता है ) होता है । इसके साथ ही हर लेनदेन के साथ एक डिजिटल सिग्नेचर इस्तेमाल होता है जिससे वित्तीय लेनदेन को नहीं बदला जा सकता है मतलब अगर आपने एक बार ट्रांसक्शन बिटकॉइन नेटवर्क में कर दिया है तो उसे परिवर्तित नहीं कर सकते है ।

 

बिटकॉइन कैसे प्राप्त करे

बिटकॉइन प्राप्त करने के मुलत; दो ही तरीके है पहला : आप किसी भी बिटकॉइन एक्सचेंज वेबसाइट से डॉलर या रुपये भेज कर प्राप्त कर सकते है । भारत में भी कई ऐसी कम्पनिया काम कर रही है जो बिटकॉइन के खरीदने और बेचने का कार्य करती है जैसे unocoin



दूसरा तरीका है जो आम यूजर के लिए दिखने और सुनने में तो बहुत ही सिंपल है लेकिन वहां से बिटकॉइन प्राप्त करना बहुत ही कठिन है । बिटकॉइन नेटवर्क भी सोने के खनन के सिद्धांत को अपनाता है और जो बिटकॉइन खनन में उसकी सहायता करता है उसको वो बिटकॉइन उपहारस्वरूप प्रदान करता है ।

अब आप सोच रहे होंगे कि खनन का बिटकॉइन से क्या लेना देना ?

बिटकॉइन नेटवर्क को अपनी ब्लॉक चैन को निरंतर अपडेट करने कि साथ ही हर एक लेनदेन को एनक्रिप्टेड करने के लिए बहुत ज्यादा कंप्यूटर प्रोसेसिंग क्षमता की जरूरत होती है , इसी क्षमता को पूरी करने कि लिए बिटकॉइन नेटवर्क इंटरनेट पर उपलब्ध कम्प्यूटर्स की सहायता ले सकता है , अगर आप भी अपने कंप्यूटर को बिटकॉइन नेटवर्क से जोड़ कर अपने कंप्यूटर की प्रोसेसिंग क्षमता इस्तेमाल करने की अनुमति देते हो तो बदले में आपकी कंप्यूटिंग क्षमता के अनुसार बिटकॉइन नेटवर्क आपको बिटकॉइन प्रदान करता है , इस पुरे प्रोसेस को बिटकॉइन माइनिंग कहाँ जाता है । इसके बारे में ज्यादा जानकारी अगले पोस्ट में दी जाएगी ।

 

 

बिटकॉइन के बारे में ज्यादा जानने के लिए निचे दिए गए वीडियो को देखे !

 

 

अगर आपको ये जानकारी पसंद आयी है तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर (Facebook, Twitter, Google, Whatsapp)  करे और कुछ ज्यादा जानकारी चाहते हो तो निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में जरूर कमेंट करे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: