सरकारी बैंक में हुई घटना से एक ग्राहक कोमे में, CBI जाँच की मांग !

आज संत श्याम नगर की सरकारी बैंक की शाखा में एक हैरतंगेज़ घटना हुई, सरकारी बैंक में आये एक ग्राहक बनारसी लाल कोमे में चले गए , जिन्हें नज़दीकी सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया । वहाँ पर उन्हें VVIP उपचार देते हुए फ़र्श पर सुलाने का फ़ैसला किया गया।

इस घटना से पूरे क्षेत्र में दहशत का माहौल छाया हुआ हैं, जब हमारे संवाददाता घटना स्थल पर पहुँचे तो वहाँ पर कई लोग इस आकस्मिक घटना के कारण बेहोश पड़े हुए मिले। जब हमने बैंक के चपरासी ( जनता के बैंक मैनेजर) से बात करने की कोशिश की तो काफ़ी न नुकुर के बाद नयी २०० की पत्ती जेब में डालने के बाद उन्होंने अपनी ज़बान खोली।
 



 
रामभरोसे उर्फ़ खाऊँ यादव ( बैंक चपरासी) के अनुसार “ पिछले कुछ ही दिन में ही बैंक जोईन करने वाले नए पी॰ओ॰ बच्चा सिंह ने बैंकिंग सिस्टम की सारी मान्यताओं को पल भर में फुर्र कर दिया। घटना के दिन बनारसी लाल अपना बैंक अकाउंट खुलवाने के लिए बैंक की ब्रांच में आया था। उसके दादा और पिताजी बैंक का चक्कर काटते काटते स्वर्ग सिधार गए लेकिन एक अदद बैंक अकाउंट नही खुलवा पाए।

 

यह भी पढ़े :  Dhinchak Pooja का एक और कारनामा, पढ़ते ही उड़ जाएंगे होश !

बनारसी के मन में यह टीस हमेशा से ही थी और अपने जीवन का एकमात्र उद्देश्य बैंक में अकाउंट खुलवाने को बना लिया। घटना के दिन बनारसी लाल लगभग एक बोरी भरकर काग़ज़ात लेके आया जिसमें उसकी पाँच पीढ़ियों के राशन कार्ड, बी॰पी॰एल॰ कार्ड एवं मतदान पहचान पत्र के साथ ही अपने पूरे परिवार के आधार कार्ड लेकर आया।

बनारसी लाल ने सुबह 7 बजे से ही बैंक के बाहर डेरा जमा दिया लेकिन बैंक ब्रांच की व्यवस्थाओं के कारण उसका शाम को 4:45 बजे नम्बर आ गया। अपना नम्बर आने से बनारसी ख़ुशी से फुला नहीं शमा रहा था, उसके पाँव आज ज़मीन पर नही पड़ रहे थे। उसे लग रहा था कि आज उसके पुरखों की आख़िरी इच्छा पूरी हो जायेगी।




लेकिन नियति को कुछ और ही मंज़ूर था, जिस बात का डर था वो ही हुआ। बनारसी लाल , बच्चा सिंह के गुड गवर्नन्स के हत्थे चढ़ गया, बैंक में लगभग सन्नाटा छा गया और उसके साथ ही बनारसी की ख़ुशी पल भर में काफ़ूर हो गयीं।

बच्चा सिंह ने बनारसी का आधार कार्ड लिया और उसके फ़िंगर प्रिंट लेने के बाद ही उसका अमीर-धन अकाउंट खोल दिया, मात्र १० मिनिट में ही अपना अकाउंट खुलने से बनारसी लाल को गहरा दिमाग़ी झटका लगा और बाद में वहीं हुआ जिसका सभी को डर था, इस घटना के बाद से ही बनारसी लाल कोमे में हैं।

इस घटना के बाद में अफ़रातफ़री का माहौल हो गया तथा बैंक मैनेजर ने जल्दबाज़ी में एक जाँच कमेटी की घोषणा की जो उनको अगले जन्म में इस घटना की १२००० पेज कीं रिपोर्ट सौंपेंगीं। बच्चा सिंह को बैंकिंग मान्यताओं को तोड़ने के जुर्म में नज़दीकी शहर की बैंक ब्रांच में भेज दिया।

 

यह भी पढ़े :  Dhinchak Pooja का एक और कारनामा, पढ़ते ही उड़ जाएंगे होश !

जब हमने बच्चा सिंह के सहकर्मी पेटभराऊँ मिश्रा से बात की तो मिश्रा जी के अनुसार “ अरे सरकार ! हमने पूरी उम्र बैंक में बीता दीं लेकिन ऐसा पाप हमसे तो नहीं हुआ, ये आजकल के युवा पूरी बैंकिंग संस्कृति को बिगाड़ने पर तुले हुए हैं। ये घटनाएँ आजकल बहुत ज़्यादा हो रही है क्योंकि हॉलीवुड मूवी देखकर बैंकर बनने वाले इंजीनियर अब बैंक कीं नौकरी करने लग गये हैं। उनका अपने क्षेत्र में तो कुछ हुआ हैं नही और आ जातें हैं हमारे फ़ील्ड में गंध फैलाने।

 



 

इसी बीच राज्य सरकार ने बनारसी लाल के साथ हुए अत्याचार की भरपाई करते हुए ‘उसके हिस्से के 15 लाख ‘ उसके अकाउंट में जमा करा दिये हैं। कुछ विपक्षी दलों ने दलित पर हुए अत्याचार की सी॰बी॰आई॰ जाँच कीं माँग के साथ ही अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प के इस्तीफ़े की माँग की । माँगे नही मानने पर देशव्यापी बैंक-जाम की चेतावनी दी ।

 

अन्य ऐसे ही मनोरंजक फेक न्यूज़ पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: